Thursday, 9 March 2017

A trip of memories | Abhideep Roy


तुम शराफ़त को बाज़ार में क्यूँ ले आए हो,
ये सिक्का तो बरसों से नहीं चलता...!!


No comments:

Post a Comment